मधुमेह के ११ लक्षण और घरेलू उपचार हिंदी में

मधुमेह लक्षण घरेलू उपचार
वुमन वेक्टर क्रिएटेड बाय Storieswww.freepik.com

मधुमेह लक्षण घरेलू उपचार वृद्ध लोगों में मधुमेह होने की संभावना अधिक होती है। शरीर में शुगर कि मात्रा बढ़ जाने से मधुमेह होता है। चीनी का प्रतिकूल प्रभाव पड़ने में समय लगता है। इसलिए, वृद्धावस्था में मधुमेह विकसित होना कि संभावना अधिक होती है। उसे, शरीर के कई कार्य जिम्मेदार होते हैं। इसका परिणाम यह आपको उम्र के साथ अधिक धीरे-धीरे प्रभावित करता है और बुढ़ापे में अधिक दिखाई देता है। मधुमेह को नियंत्रित करने की जरूरत है।

आज बहुत से लोग इंसुलिन का इंजेक्शन लगाकर अपने मधुमेह को नियंत्रित कर रहे हैं। इसे रखना जरुरी है। डायबिटीज को लेकर कई लोगों में गलतफहमियां होती हैं। लोग उसके डर से जीते हैं। लोग इससे डर जाते हैं। जीवन के अंत तक दौड़ना जैसे मधुमेह प्रमुख विकारों में से एक है। इसे खत्म करना डॉक्टर के हाथ में नहीं, पीड़ित के हाथ में होता है। बस, उन्हें डॉक्टर जो कहते हैं उसका सख्ती से पालन करना चाहिए।

मधुमेह के दो प्रकार – मधुमेह किशोरावस्था या प्रारंभिक वयस्कता में होता है। यह दोनों के बीच का अंतर और उसके कारण अलग हो सकते हैं। वृद्धावस्था मे मधुमेह कि बीमारी अधिक गंभीर होती है। तो कुछ खुद को ठीक से संभाल लेते हैं। कुछ डॉक्टर की सलाह पर इलाज करते हैं। बहुत कम लोगों को इंसुलिन के इंजेक्शन लेने की जरूरत होती है। हालांकि, किशोरावस्था में मधुमेह अधिक गंभीर होता है। ऐसे मरीजों को इन्सुलिन पर जीना पड़ता है। उन्हें इलाज के लिए इंसुलिन की जरूरत है। आइए देखते हैं मधुमेह लक्षण घरेलू उपचार

मधुमेह के लक्षण – Dibetes Symptoms

मधुमेह के लक्षण
डायबिटिक वेक्टर्स बाय Graphics RFVecteezy

१) अत्यधिक थकान।

२) चकर और कमजोरी महसुस होना।

३) बहुत ज़्यादा पसीना आना।

४) मन में बहुत भ्रम होना।

५) अत्यधिक और बार-बार पेशाब आना।

६) बहुत प्यास लगना।

७) सूखी जीभ।

८) शरीर के सभी हिस्सों में झुनझुनी आना ।

९) रक्त शर्करा का स्तर बेहद कम ५० मिलीग्राम या उससे कम होना।

१०) ३०० मिलीग्राम या अधिक चीनी का स्तर बढ़ना।

११) डायबिटीज व्यक्ति को कभी भी चक्कर आने का अनुभव हो सकता है। या वह बेहोश हो सकता है।

मधुमेह के कारण क्या है? – What Cause Diabetes

१) पूरे शरीर को ऊर्जा की जरूरत होती है। यह ऊर्जा चीनी (ग्लूकोज) को जलाने से पूरे शरीर को मिलती है। यह सारी प्रक्रिया शरीर के विभिन्न अंगों द्वारा की जाती है। सभी मांसपेशियां एक दूसरे से जुड़ी होती हैं। उम्र के साथ, उनकी ताकत कम होने लगती है। शरीर की सभी प्रक्रियाओं को धीमा कर देता है।

२) ग्लूकोज को जलाने के लिए इंसुलिन की जरूरत होती है। यह इंसुलिन तब निकलता है जब शरीर की मांसपेशियां कमजोर होती हैं। इसलिए आवश्यक मात्रा मे चीनी (ग्लूकोज) जलने के लिए इंसुलिन नहीं मिलता है। इसलिए, चीनी का कुछ भाग जलता नहीं है। रक्त में न जला शर्करा (ग्लूकोज) की मात्रा बढ़ देता है। जैसे-जैसे रक्त शर्करा का बढ़ ने से शरीर में अन्य प्रक्रियाएं बाधित होती हैं।

३) फट्स खाद्य पदार्थ खाने से और अधिक समस्याएं हो सकती हैं। आम तौर पर शरीर में शर्करा का स्तर १८० मिलीग्राम और उससे कम होना चाहिए। एक व्यक्ति कितना ग्लूकोज का सेवन करता है इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। लेकिन मधुमेह के मामले में चीनी की मात्रा इससे कहीं अधिक बढ़ जाती है।

४) खाने के बाद चीनी की अधिक मात्रा बढ़ जाती है। फिर यह मुत्र्द्वारा बाहर पड़ती है। आम तौर पर, यूरिन (मूत्र) में शर्करा की मात्रा रक्त शर्करा के स्तर के समान ही होती है। यानी इसका परीक्षण कर मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है।

५) लेकिन इस के कुछ अपवाद भी हैं। यदि इसमें रक्त शर्करा का स्तर १८० मिलीग्राम से अधिक नहीं है, वे इसलिए चीनी बिल्कुल नहीं लेते हैं इसलिए उनके रक्त की जांच करनी पड़ती है।

मधुमेह (डायबिटीज) के लिए घरेलू उपचार – Home Remedies for Diabetes

१) मधुमेह लक्षण घरेलू उपचार ज्यादा चीनी खाने से शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है। और मधुमेह होता है। इसलिए अधिक मीठा खाते समय धैर्य रखें। शरीर को जितनी जरूरत हो उतनी चीनी पेट में चली जानी चाहिए। शरीर में कैलोरी की मात्रा नहीं बढ़नी चाहिए। इसे ध्यान मे रखना चाहिए। उचित रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने के लिए किया जाना है।

२) कच्ची चीनी और चीनी की मिठास के साथ-साथ मादक पेय पदार्थों के कारण रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पदार्थ, या मादक पेय, हृदय की धड़कन को तेज करता है और रक्त का प्रवाह तेज होता है। साथ ही, उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं का आटा और आलू हृदय गति को धीमा कर देते हैं। इसलिए ताजी सब्जियां खाने से दिल की गति धीमी होती है।

३) ज्यादा चीनी न खाएं। साथ ही चावल में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है तो कम खाएं या न खाएं। इससे मोटापा बढ़ सकता है। स्वस्थ रहने के लिए आपको अच्छी प्रोटीन और विटामिन प्राप्त करने के लिए सब्जियां खाने की जरूरत है। शरीर की चर्बी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ (मक्खन, घी, अंडे) नहीं खाने चाहिए या बहुत कम खाए। बेहद मीठे आम और अंगूर जैसे फलों को कम से कम खाना चाहिए या नहीं।

४) हालांकि अगर डायबीटीज को डाइट से कंट्रोल नहीं किया जा सकता है तो दवा भी लेनी चाहिए। दवा बिल्कुल वैसा ही लिया जाना चाहिए जैसा डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया गया है। बहुत कम लेना हानिकारक हो सकता है। दवा उतनी ही होनी चाहिए जितनी डॉक्टर आपको बताए। कुछ खुराक लंबे समय तक चलने वाली होती हैं। इस मामले में, डॉक्टर कम दवा से शुरू करते हैं। और धीरे-धीरे इसे बढ़ाते जाएं और मरीज के ठीक होने तक वहीं रख दें।

५) यदि कोई मधुमेह रोगी भी बीमार हो जाता है या उसे बुखार या चोट लगती है या किसी अन्य बीमारी से पीड़ित होता है, तो डॉक्टर को तुरंत सूचित किया जाना चाहिए। वे इंसुलिन की मात्रा को बढ़ा या घटा सकते हैं।

६) आपने इस पर गौर किया होगा कि चीनी की मात्रा अधिक या कम होने पर भी काम नहीं करती है, इसलिए रोगी को अपने भोजन के समय और आदतों को कभी नहीं तोड़ना चाहिए। भोजन में यदि कई खाद्य पदार्थ हैं, तो उसे फैट बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। इंसुलिन का इंजेक्शन लगाने के बाद भी उसी नियम का सख्ती से पालन करना चाहिए।

७) व्यायाम का उपयोग चीनी (ग्लूकोज) को जलाने के लिए किया जाता है। तो आपको इंसुलिन की मदद को कम करने के लिए व्यायाम करने की आवश्यकता है। आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। आहार, इंसुलिन के नियमों का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए और नियमित रूप से व्यायाम सख्ती से किया जाना चाहिए। व्यायाम मोटापे और वजन घटाने में मदद करता है। यानी यह मधुमेह के खतरे को कम करता है।

८) मधुमेह रोगियों को मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए अंत तक प्रयास करना चाहिए। समय-समय पर रक्त और मूत्र परीक्षण करवाना चाहिए। लेकिन साथ ही आपको समय-समय पर डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपने सुधार के बारे में जानकारी लेनी चाहिए।

मधुमेह लक्षण ११ और घरेलू उपचार हिंदी में – जानकारी अच्छी लगे तो शेयर और कमेंट जरूर करें।

अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें घरेलू उपचार करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर और सही व्यक्ति से सलाह अवश्य लें।

अन्य पढ़ें:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *